SUBSCRIBE

Get latest updates

Maharana Pratap Jayanti quotes and images.

Maharana Pratap Jayanti quotes and images.

Maharana Pratap Jayanti quotes and images. अपने कतर्व्य,और पुरे सृष्टि के कल्याण के लिए प्रयत्नरत मनुष्य को युग युगांतर तक स्मरण रखा जाता है।

  • मनुष्य का गौरव और आत्मसम्मा उसकी सबसे बङी कमाई होती है।अतः सदा इनकी रक्षा करनी चाहिए।” ~महाराणा प्रताप
  • गौरव,मान- मर्यादा और आत्मसम्मान से बढ कर कीमती जीवन भी नही समझना चाहिए।
Maharana Pratap Jayanti

maharana pratap jayanti in hindi

maharana pratap jayanti in hindi
  • तब तक परिश्रम करते रहो जब तक तुम्हे तुम्हारी मंजिल न मिल जाये।
  • मातृभूमि और अपने माँ मे तुलना करना और अन्तर समझना निर्बल और मुर्खो का काम है।” ~महाराणा प्रताप
  • अन्याय, अधर्म,आदि का विनाश करना पुरे मानव जाति का कतर्व्य है।

maharana pratap jayanti photo

maharana pratap jayanti photo
  • ये संसार कर्मवीरो की ही सुनता है। अतः अपने कर्म के मार्ग पर अडिग और प्रशस्त रहो।” ~
  • एक शासक का पहला कर्त्यव अपने राज्य का गौरव और सम्मान बचाने का होता है।
  • महाराणा प्रताप
  • मनुष्य का गौरव और आत्मसम्मान उसकी सबसे बङी कमाई होती है।अतः सदा इनकी रक्षा करनी चाहिए

maharana pratap jayanti images

maharana pratap jayanti images
  • .”सम्मानहीन मनुष्य एक मृत व्यक्ति के समान होता है।” ~महाराणा प्रताप
  • समय इतना बलवान होता है, कि एक राजा को भी घास की रोटी खिला सकता है।” ~महाराणा प्रताप
  • अपनो से बङो के आगे झुक कर समस्त संसार को झुकाया जा सकता है।
maharana pratap jayanti quotes in hindi

maharana pratap jayanti quotes in hindi
  • अपने कतर्व्य,और पुरे सृष्टि के कल्याण के लिए प्रयत्नरत मनुष्य को युग युगांतर तक स्मरण रखा जाता है।
  • अगर सर्प से प्रेम रखोगे तो भी वो अपने स्वभाव के अनुसार डसेगाँ ही।
  • शत्रु सफल और शौर्यवान व्यकति के ही होते है।
  • समय एक ताकतवर और साहसी को अपनी विरासत देता है, अतः अपने रस्ते पर अडिग रहो।” ~महाराणा प्रताप

maharana pratap jayanti status

maharana pratap jayanti status

  • नित्य, अपने लक्ष्य,परिश्रम,और आत्मशक्ति को याद करने पर सफलता का मार्ग सरल हो जाता है।
  • अत्यंत विकट परिस्तिथत मे भी झुक कर हार नही मानते। वो हार कर भी जीते होते है।
  • सत्य,परिश्रम,और संतोष सुखमय जीवन के साधन है। परन्तु अन्याय के प्रतिकार के लिए हिंसा भी आवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked*

This website uses cookies.