Ijazat Lyrics – One Night Stand | Arijit Singh

76
Ijazat Lyrics – One Night Stand
Ijazat Lyrics – One Night Stand

Ijazat Lyrics from ONE NIGHT STAND in the melodious voice of Arijit Singh & Meet Bros, music composition by Meet Bros & lyrics written by Shabbir Ahmed.

Ijazat Song Detail

SONG – IJAZAT
SINGERS – MEET BROS, ARIJIT SINGH
MUSIC – MEET BROS
LYRICS – SHABBIR AHMED
MUSIC LABEL – T-SERIES

IJAZAT Video Song | ONE NIGHT STAND | Sunny Leone

IJAZAT LYRICS

Kaise bataaye, kaise jataaye
Subah tak tujhme jeena chahein
Bheege labon ki, geeli hansi ko
Peene ka mausam hai peena chahein

Ik baat kahoon kya ijazat hai
Tere ishq ki mujhko aadat hai
Ik baat kahoon kya ijazat hai
Tere ishq ki mujhko..
Aadat hai o.. aadat hai..
Aadat hai o.. aadat hai..

Ehsaas tere aur mere toh
Ik dooje se judd rahe
Ik teri talab mujhe aisi lagi
Mere hosh bhi udne lage

Mujhe milta sukoon teri baahon mein
Jannat jaisi ek raahat hai

Ik baat kahoon kya ijazat hai
Tere ishq ki mujhko aadat hai
Ik baat kahoon kya ijazat hai
Tere ishq ki mujhko..
Aadat hai o.. aadat hai..
Aadat hai o.. aadat hai..

Kyun sabse juda, kyun sabse alag
Andaaz tere lagte..
Besaakh ta hum saaye se tere
Har shaam lipat’te hain
Har waqt mera, qurbat mein teri
Jab guzre toh ibadat hai

Ik baat kahoon kya ijazat hai
Tere ishq ki mujhko aadat hai
Ik baat kahoon kya ijazat hai
Tere ishq ki mujhko..
Aadat hai o.. aadat hai..
Aadat hai o.. teri aadat hai..

Ijazat Hindi Lyrics

कैसे बताएं, कैसे जताएं
सुबह तक तुझमें जीना चाहें
भीगे लबों की, गीली हसीं को
पीने का मौसम है पीना चाहें

एक बात कहूं क्या इजाज़त है
तेरे इश्क़ की मुझको आदत है
एक बात कहूं क्या इजाज़त है
तेरे इश्क़ की मुझको
आदत है ओ
आदत है.. आदत है ओ.. आदत है..

एहसास तेरे और मेरे तो
एक दूजे से जुड़ रहे
एक तेरी तलब मुझे ऐसी लगी
मेरे होश भी उड़ने लगे

मुझे मिलता सुकून तेरी बाहों में
जन्नत जैसी एक राहत है

एक बात कहूं क्या इजाज़त है
तेरे इश्क़ की मुझको आदत है
एक बात कहूं क्या इजाज़त है
तेरे इश्क़ की मुझको
आदत है ओ
आदत है.. आदत है ओ.. आदत है..

क्यूँ सबसे जुदा, क्यूँ सबसे अलग
अंदाज़ तेरे लगते
बेसाख ता हम साये से तेरे
हर साम लिपटते हैं
हर वक़्त मेरा कुर्वत में तेरी
जब गुजरे तो इबादत है

एक बात कहूं क्या इजाज़त है
तेरे इश्क़ की मुझको आदत है
एक बात कहूं क्या इजाज़त है
तेरे इश्क़ की मुझको
आदत है ओ
आदत है.. आदत है ओ.. आदत है..